के आर पाण्डुलिपि का केही ताङ्काहरू

K. R., Pandulipi, के आर पाण्डुलिपि , pallawa, पल्लव

के आर पाण्डुलिपि

केश भिजाइ
बदन फुकाएर
आँखा सन्काइ
पलङ मै आयौ र
सपना देख्न छोडे।

घमण्ड भो कि
काग फेयर लब्ली
दलेर खै के
केटा फेर्दै हिड्ने
मन सुन्दर होला?

 

Continue reading